देश

बीजेपी ने ध्वस्त किया नेहरू और इंदिरा का रिकॉर्ड, वोट शेयर में ऐतिहासिक बढ़ोतरी

न्यूज़ शेयर करना न भूले |
  •  
  •  
  •  

भाजपा न केवल 35 वर्षों में पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में लौटने वाली पहली पार्टी बन गई, बल्कि प्रचंड जीत के साथ उसके वोट शेयर में भी रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज की गई.

वर्तमान लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी के पक्ष में मिले भारी जनादेश ने भारतीय चुनावी इतिहास में एक नया अध्याय जोड़ दिया है. नरेंद्र मोदी को मिली इस जीत ने कई रिकॉर्ड बनाए. भाजपा न केवल 35 वर्षों में पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में लौटने वाली पहली पार्टी बन गई, बल्कि प्रचंड जीत के साथ उसके वोट शेयर में भी रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज की गई.

यह परिणाम, मोदी की लोकप्रियता को प्रतिबिंबित करने के अलावा, पिछले कई वर्षों में हुए भाजपा के लगातार विस्तार को भी इंगीत करते हैं. भारतीय जनता पार्टी ने अकेले इस चुनाव में 303 सीटें जीतीं जो कि 2014 के मुकाबले 21 अधिक हैं.

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि भगवा पार्टी ने अपने वोट शेयर में 6 प्रतिशत की वृद्धि की है. यह इस मायने में ऐतिहासिक है कि भारतीय चुनावी इतिहास में 1952 के बाद कोई भी दल इस रफ्तार से अपने वोट शेयर में वृद्धि नहीं कर सका है.

पिछला रिकॉर्ड कांग्रेस के पास था जिसने 1984 में वोट शेयर में 5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की थी. हालांकि, 1984 के चुनाव इंदिरा गांधी की हत्या की पृष्ठभूमि में हुए थे और कांग्रेस सहानुभूति के रूप में मिले वोटों पर सवार थी.

1984 से पहले, दो बार ऐसा देखने को मिला जब एक पार्टी ने अपने वोट शेयर में वृद्धि की. पहली बार 1957 में जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में और दूसरी बार 1971 में इंदिरा गांधी के नेतृत्व में. हालांकि, दोनों बार कांग्रेस के वोटों में बढ़ोतरी हुई और दोनों बार वोट शेयर में वृद्धि 3 प्रतिशत थी.

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि भारतीय राजनीति की इस अवधि में कांग्रेस का प्रभुत्व था. लेकिन अब समय बदल गया है और सबसे पुरानी पार्टी अब अपने पूर्व स्वरूप की छाया मात्र रह गई है.

भारत के चुनावी इतिहास में पहली बार 2014 में, भाजपा का वोट शेयर कांग्रेस से अधिक रहा. हालांकि, 1998 और 1999 में भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए ने केंद्र में सरकार बनाने में सफल तो रही, लेकिन उसका वोट शेयर कांग्रेस से कम रहा.

भाजपा के लिए वोट शेयर में वृद्धि कोई नई बात नहीं है क्योंकि इससे पहले भी 3 मौके ऐसे आए जब भगवा पार्टी ने अन्य पार्टियों के समर्थन से वोट शेयर के मामले में छलांग लगाई.

1991 में, मंडल राजनीति के चरम पर होने के दौरान भाजपा के वोटों में 9 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई थी, जब वे 11 प्रतिशत से 20 प्रतिशत तक पहुंच गए थे. दूसरी बार 1998 में उसे 6 फीसदी ज्यादा वोट मिले थे और 2014 में उसके वोट शेयर में 12 फीसदी का इजाफा हुआ था.

हालांकि, इस चुनाव में भाजपा के लिए वोटों में 6 प्रतिशत की वृद्धि अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि यह न केवल किसी एक पार्टी के लिए सबसे अधिक वृद्धि है, बल्कि इसलिए भी है क्योंकि भाजपा पश्चिम बंगाल और ओडिशा जैसे राज्यों में भी बढ़त बनाने के साथ जबरदस्त राजनीतिक उलटफेर करने में भी कामयाब रही, जहां कुछ समय पहले तक इसकी गिनती सबसे कमजोर पार्टियों के रूप में होती थी.