देश

बंगाल में सड़कों पर नमाज के विरोध में फिर हनुमान चालीसा का पाठ

न्यूज़ शेयर करना न भूले |
  •  
  •  
  •  

हावड़ा में बीजेपी शुक्रवार को सड़क पर नमाज का विरोध कर रही है, जिसके जवाब में अब सड़क पर मंगलवार को हनुमान चालीसा पढ़ना शुरू कर दिया है.

पश्चिम बंगाल मे जय श्रीराम के बाद अब हनुमान चालीसा को लेकर घमासान मचा हुआ है. हावड़ा में एक बार फिर सैकड़ों लोगों ने सड़क पर हनुमान चालीसा पढ़ी. इसमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे. दरअसल, हावड़ा में बीजेपी शुक्रवार को सड़क पर नमाज का विरोध कर रही है, जिसके जवाब में अब सड़क पर मंगलवार को हनुमान चालीसा का आयोजन करना शुरू कर दिया है.

इससे पहले 26 जून को हावड़ा के बाली खाल के नजदीक बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष ओम प्रकाश और प्रियंका शर्मा के नेतृत्व में सड़क पर सैकड़ों लोगों ने हनुमान चालीसा का पाठ किया था. बीजेपी के इस हनुमान चालीसा पाठ के कारण कई घंटों तक रास्ता बंद रहा. इस बाबत बीजेपी युवा मोर्चा के अध्यक्ष ओमप्रकाश ने कहा कि जब एक धर्म के लोग शुक्रवार के दिन रास्ते पर बैठ कर नमाज पढ़ सकते हैं, तो हम हनुमान चालीसा क्यों नहीं? अब हावड़ा में प्रत्येक मंगलवार को विभिन्न जगहों पर हनुमान चालीसा पढ़ा जाएगा?

बंगाल में बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस एक दूसरे के सामने हैं. दोनों पार्टियां एक दूसरे पर हिंसा का आरोप लगा रही हैं. दोनों पार्टियों के कार्यकर्ता हर दिन मारे जा रहे हैं. पश्चिम मिदनापुर जिले में सोमवार सुबह तृणमूल कांग्रेस के एक नेता के घर के पास उनका शव मिला. पुलिस ने यह जानकारी देते हुए कहा कि नारायणगढ़ में ब्लॉक के तृणमूल नेता गणेश भुइंया का शव सड़क किनारे झाड़ियों से बरामद किया गया. उनके शरीर पर चोट के निशान थे.

तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि हत्या के पीछे ‘ बीजेपी समर्थित असामाजिक तत्वों का’ हाथ है. जिले के एक तृणमूल नेता ने कहा, “बीजेपी बंगाल में हिंसा और खून की राजनीति कायम करना चाहती है. वे क्षेत्रों पर नियंत्रण हासिल करने के लिए हत्याओं, लूट, बर्बरता और आगजनी का सहारा ले रहे हैं. तृणमूल कांग्रेस अभी भी हर संभव तरीके से लोकतांत्र की रक्षा करने की कोशिश कर रही है.” उन्होंने कहा, “बंगाल में सिर्फ 18 लोकसभा सीटें जीतने के बाद वे जिस तरह से लोगों को आतंकित करने की कोशिश कर रहे हैं, वह उनका असली रंग दिखाता है. हम उनकी इस राजनीति का कड़ा विरोध करते हैं.”

हालांकि, बीजेपी नेताओं ने इन आरोपों का खंडन किया और दावा किया कि तृणमूल नेतृत्व के भीतर ही किसी ने भुइंया की हत्या करवाई है. यह घटना हुगली जिले के वांडर रेलवे स्टेशन में एक तृणमूल नेता की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या करने के दो दिन बाद हुई है.